मीडियामोरचा

____________________________________पत्रकारिता के जनसरोकार

Print Friendly and PDF

राष्ट्रीय एकता दिवस पर मीडिया ईकाइयों ने आयोजित किए कई कार्यक्रम

सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय, भारत सरकार के पटना स्थित मीडिया ईकाइयों का कार्यक्रम

पटना/ आजाद भारत के पहले गृहमंत्री सरदार वल्लभ भाई पटेल की 143वीं जयंती तथा राष्ट्रीय एकता दिवस के अवसर पर आज सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय, भारत सरकार के पटना स्थित मीडिया ईकाइयों, पत्र सूचना कार्यालय (पीआईबी) तथा क्षेत्रीय आउटरिच ब्यूरो (आरओबी) द्वारा विभिन्न कार्यक्रमों - रन फॉर यूनिटी (एकता दौड़), वाद-विवाद प्रतियोगिता, प्रश्नोत्तरी प्रतियोगिता, एकता शपथ - का आयोजन किया गया। 

इस अवसर पर  अंकुर पब्लिक स्कूल, दीघा में आयोजित कार्यक्रम में सबसे पहले छात्र-छात्राओं ने एकता दौड़ में हिस्सा लिया। उसके बाद शिक्षकों, बच्चों और अतिथियों ने राष्ट्रीय एकता की शपथ ली और सरदार पटेल की तस्वीर पर माल्यार्पण किया। कार्यक्रम के दौरान देश की एकता में सरदार पटेल की भूमिका पर वाद-विवाद और प्रश्नोत्तरी प्रतियोगिता आयोजित की गई। विजेता छात्र-छात्रओं को मौके पर ही पुरस्कृत भी किया गया।

कार्यक्रम में न्यूज18 के बिहार-झारखंड प्रभारी अमिताभ ओझा ने कहा कि बहुत सारे बच्चों को अपने महापुरूषों के बारे में जानकारी नहीं होती है। ऐसे में सरदार पटेल की जयंती पर बच्चों के बीच कार्यक्रम आयोजित कर महापुरूषों के बारे में जानने को लेकर एक संदेश दिया गया है। मौके पर पीआईबी के निदेशक दिनेश कुमार ने कहा कि हर बच्चे के अंदर में पटेल बनने की क्षमता होती है। कोई गांधी बनता है तो कोई सुभाष चंद्र बोस। उन्होंने कहा कि अपने जीवन में जो जुड़ें हैं, उन्हें याद रखना होगा। सरदार पटेल भी हमारे जीवन से जुड़े हैं। उन्होंने राष्ट्रवाद का उत्कृष्ट उदाहरण पेश किया है।

पीआईबी के सहायक निदेशक संजय कुमार ने कहा कि सरदार पटेल ने देश के लिए जो भी कुछ किया उसे भुलाया नहीं जा सकता। जरूरत है उनके बताए हुए रास्ते पर चलने की और देश को एकसूत्र में पिरो कर रखने की। कार्यक्रम को संबोधित करते हुए सेवानिवृत्त उप विकास आयुक्त राम प्रसाद राम ने कहा कि सरदार पटेल कुछ और दिन जीवित होते तो भारत की तस्वीर कुछ और होती। अंकुर पब्लिक स्कूल के निदेशक डॉ. संजय कुमार ने सरदार पटेल के व्यक्तित्व और कृतित्व पर प्रकाश डालते हए कहा कि सरदार पटेल एक साहसिक व्यक्ति थे और उन्होंने अपनी जिम्मेवारियों को पूरी ईमानदारी से निभाया।

Go Back

Comment