मीडियामोरचा

____________________________________पत्रकारिता के जनसरोकार

Print Friendly and PDF

खबरों का घोटाला !

कृष्णेन्द्र राय//

खबर है दिलचस्प ।

खबरों का घोटाला ।।

नजर लगी है तेज ।

                               लगाओ टीका काला ।।

खबर है पधारी ।

ले संग अपने आय ।।

होगी हरी जेब ।

अद्भुत है उपाय ।।

कोई छाने ख़ाक ।

कोई बैठ काम ।।

खबर ने मचाया ।

जगत में कोहराम ।।

दाव पर प्रतिष्ठा ।

नौबत बंदरबांट ।।

असली और नकली ।

भेद करो कपाट ।।

Go Back

Comment